2
1
previous arrow
next arrow
छत्तीसगढ़रायपुर

टीचर्स एसोसिएशन के प्रांतीय वर्चुअल बैठक में मुख्य मांग पर हुई चर्चा

एन्टी करप्शन टाइम्स

लंबित DA व HRA

सभी कर्मचारियो की मांग

—————

सभी संघ मिलकर करें

अनिश्चितकालीन हड़ताल

—————

  • रायपुर/एन्टी करप्शन टाइम्स
  • छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन की प्रांतीय वर्चुअल बैठक में DA व HRA के लिए अनिश्चितकालीन आंदोलन पर चर्चा की गई, जिसमे यह विचार सामने आया कि अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन व मंहगाई भत्ता संघर्ष मोर्चा द्वारा 25 जुलाई से एक साथ अनिश्चित कालीन आंदोलन करने से ही पूरा मंहगाई भत्ता मिलेगा।
  • बैठक में चिंता व्यक्त की गई कि आखिर कब तक DA व HRA के लिए टुकड़े टुकड़े में आंदोलन करेंगे, मंहगाई भत्ता में शासन ने सभी को उलझा दिया है, आखिर मूल मांगो पर कब आंदोलन करेंगे। सभी पदाधिकारियों ने एक स्वर से कहा कि अब महंगाई भत्ता के लिए आर पार ही एक मात्र विकल्प है।
  • प्रदेश अध्यक्ष संजय शर्मा व कोरबा जिला अध्यक्ष मनोज चौबे ने बताया कि बैठक में निर्णय लिया गया कि प्रथम नियुक्ति तिथि से पुरानी पेंशन हेतु अवधि की गणना, 20 वर्ष की सेवा पर (पूर्ण) 50% वेतन पेंशन का निर्धारण, प्रथम नियुक्ति तिथि के आधार पर क्रमोन्नति वेतनमान, समस्त रिक्त पद पर पदोन्नति, 1 जुलाई 2019 के संविलियन को 3 वर्ष पूर्ण होने के आधार पर पदोन्नति, प्राचार्य के पद पर भी पदोन्नति, आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल खोलने का स्वागत किन्तु हिंदी माध्यम स्कूल बन्द करने का विरोध किया जाएगा।
  • छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष संजय शर्मा ने बताया कि अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन के प्रदेश संयोजक कमल वर्मा व मंहगाई भत्ता संघर्ष मोर्चा के प्रदेश संयोजक अनिल शुक्ला से सार्वजनिक रूप से कर्मचारी हित मे एक साथ 25 जुलाई से ही अनिश्चितकालीन हड़ताल की घोषणा करने की अपील के साथ आग्रह किया है।

दोनों ग्रुप में बैनर का टकराव न हो इसलिए

संयुक्त रुप से आंदोलन का आगाज किया जावे।

टीचर्स एसोसिएशन के प्रांतीय वर्चुअल बैठक में मुख्य मांग पर हुई चर्चा Pradakshina Consulting PVT LTD

  • फेडरेशन की तिथि 25 जुलाई से ही आंदोलन करने के लिए मंहगाई भत्ता संघर्ष मोर्चा स्वीकार कर ले, तथा 25 से केवल 5 दिन के निश्चितकालीन हड़ताल के जगह अनिश्चित कालीन आंदोलन के लिए अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन भी घोषणा कर दे, तभी सरकार पर वास्तविक दबाव बन पाएगा, व मांग भी पूरा करने सरकार विवश हो जाएगी, चरणबद्ध व निश्चितकालीन आंदोलन दोनो समूह द्वारा किया जा चुका है।
  • वर्तमान विधानसभा सत्र के दौरान ही अनिश्चितकालीन आंदोलन का आगाज करना सही रणनीति होगा, कर्मचारियो पर भी महंगाई का भारी बोझ पड़ रहा है और 2.5 वर्षो से छत्तीसगढ़ के शिक्षको, कर्मचारियो व अधिकारियों को प्रतिमाह 4 से 14 हजार रुपये, लंबित महंगाई भत्ता के कारण कम वेतन मिल रहा है, अब टोकन स्ट्राइक का समय नही है बल्कि अनिश्चितकालीन हड़ताल कर पूर्ण मंहगाई भत्ता प्राप्त करने का उपयुक्त समय है।
  • प्रदेश के शिक्षक, कर्मचारी व अधिकारियों को मुख्यमंत्री द्वारा लंबित महंगाई भत्ता एरियर सहित व 7 वे वेतनमान के अनुसार HRA पर निर्णय लिए जाने की उम्मीद थी किन्तु अब तक निर्णय नही लिए जाने से समस्त शिक्षक, कर्मचारी व अधिकारियों के लिए अनिश्चितकालीन हड़ताल आवश्यक हो गया है
  • प्रांतीय वर्चुअल बैठक में छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन वर्चुअल प्रांतीय बैठक में प्रदेश अध्यक्ष संजय शर्मा, प्रदेश उपाध्यक्ष देवनाथ साहू, बसंत चतुर्वेदी, प्रवीण श्रीवास्तव, डॉ कोमल वैष्णव, प्रांतीय सचिव मनोज सनाढ्य, प्रांतीय कोषाध्यक्ष शैलेंद्र पारीक, प्रांतीय पदाधिकारी संजय उपाध्याय, पूर्णानंद मिश्रा, गुरुदेव राठौर, सपना दुबे, प्रदीप साहू, विकास तिवारी, ऋषिकेष उपाध्याय, चंद्रकांत ठाकुर, गंगेश्वर सिंह उईके, विनोद सिन्हा, केशव राम साहू, जयंत यादव, पूरन लाल साहू, राजेश यादव, उमेन्द्र गोटी, जितेंद्र मिश्रा, प्यारे लाल साहू, सूर्यकांत सिन्हा, भरत सिंह अनिल रावत अशोक कुर्रे, वेद राम पटेल,जिलाध्यक्ष नारायण चौधरी महासमुंद, गोपी राम वर्मा राजनांदगांव, संतोष सिंह बिलासपुर, रमेश चंद्रवंशी कवर्धा, राजेश गुप्ता जगदलपुर, ऋषिदेव सिंह कोंडागांव, डॉक्टर भूषण लाल चंद्राकर धमतरी, नेतराम साहू रायगढ़, मुकेश कोरी गौरेला पेंड्रा मरवाही, उदय प्रताप सिंह बैकुण्ठपुर, अनिल श्रीवास्तव जशपुर, आशीष राम सुकमा, परमेश्वर निर्मलकर गरियाबंद, भूपेश सिंह सूरजपुर, डोलामणि मालाकार सारँगढ़, देवेश वर्मा बलौदाबाजार, अतुल शर्मा, स्वाति त्रिपाठी, गायत्री ठाकुर, शामिल थे। उक्त जानकारी छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन,कोरबा जिला अध्यक्ष मनोज चौबे ने विज्ञप्ति के माध्यम से दी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

18 − eight =

Back to top button