2
1
previous arrow
next arrow
छत्तीसगढ़

चैत्र अमावस्या 2022 पर बन रहा खास संयोग, जानें शुभ मुहूर्त और विशेष उपाए

रायपुरः हिंदू धर्म में चैत्र अमावस्या का बड़ा महत्व है। इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करने से मोक्ष की प्राप्ति होती हैं। इस दिन स्नान, व्रत, श्राद्ध, दान को अति फलदायी माना गया हैं। चैत्र अमावस्या को किए गए विशेष उपाय जीवन में काफी फायदेमंद हो सकते हैं और घर में सुख सम्रद्धि का वास होता है।

इस साल चैत्र अमावस्या 1 अप्रैल 2022 शुक्रवार को है हालांकि अमावस्या तिथि 31 मार्च को दोपहर साढ़े 12 बजे ही शुरू हो जाएगी। खास बात यह है कि इस बार चैत्र अमावस्या के दिन कई शुभ योग बन रहे हैं।

चैत्र अमावस्या शुभ मुहूर्त
अमावस्या तिथि प्रारंभः 31 मार्च को दोपहर 12 बजकर 22 मिनट से,
अमावस्या तिथि समाप्तः 1 अप्रैल को सुबह 11 बजकर 53 मिनट तक,
ब्रह्म योगः सुबह 9 बजकर 37 मिनट तक,
सर्वार्थ सिद्धि योगः सुबह 10:40 बजे से,
अभिजित मुहूर्तः दोपहर 12 से 12:50 बजे तक,
अमृत सिद्धि योगः सुबह 10:40 बजे से 2 अप्रैल सुबह 6:10 तक।

चैत्र अमावस्या को क्या करें
• मध्यरात्रि से पूर्व स्नान कर पीले वस्त्र पहनें तथा उत्तर दिशा में मुह करके पूजा का आसन बिछाए।
• पूजा की थाली में केसर से स्वास्तिक का चित्र बनाकर उस पर महालक्ष्मी यंत्र स्थापित करें। इस पर केसर युक्त चावल छिड़के और घी का दीपक जलाकर कमल गट्टे की माला पर जाप करें।
• अमावस्या की रात को घी का दीपक जलाएं और बत्ती बनाने में रुई का इस्तेमाल न करके लाल रंग के धागे का उपयोग करें। इसमें थोड़ी सी केसर डाले, इस दीपक को घर के ईशान कोण की तरफ करके प्रज्वलित करें। यह उपाय करने से घर में लक्ष्मी का वास होता है।
• इस दिन किसी भिखारी अथवा भूखे व्यक्ति को भोजन अवश्य दें। जानवर, पक्षी या व्यक्ति, जो कोई भी आपको मिले, उसे भोजन अवश्य दें। घर के नजदीक कोई जलाशय हो तो इस दिन मछलियों को आटे की गोलियां अवश्य खिलाएं।
• चैत्र अमावस्या विशेष रूप से पितरों को समर्पित हैं इसलिए इस दिन अपने पूर्वजों को धूप दीप आदि अवश्य देना चाहिये। किसी पवित्र नदी में स्नान करें और उसके किनारे बैठकर पंडित से पितरों के निमित्त तर्पण और दान करवाएं। गाय के गोबर पर घी तथा गुड़ का धूप देकर थोड़ा सा जल छिड़क देने से पितृ अवश्य प्रसन्न होंगे।
• चैत्र अमावस्या के दिन पीपल के वृक्ष की जड़ में एक लोटा कच्चे दूध में बताशा और थोड़े से अक्षत डालकर अर्पित करेंगे तो इससे परिवार में सुख-शांति, सौभाग्य आता है।

डिस्क्लेमर: इस लेख में दी गई जानकारी ज्योतिषाचार्य अंजु सिंह परिहार का निजी आकलन है। आप उनसे मोबाइल नंबर 9285303900 पर संपर्क कर सकते हैं। सलाह पर अमल करने से पहले उनकी राय ले सकते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nine + four =

Back to top button