2
1
previous arrow
next arrow
उद्योग व्यापार बाजारदेश

व्यापार : शुरू होगा फिंगरप्रिंट बैंकिंग, पासवर्ड याद रखने का झंझट भी नहीं


टच करते ही शुरू होता है बैंक का काम
 ————–
  • अब पासवर्ड बैंकिंग का जमाना धीरै-धीरे कम हो रहा है. पासवर्ड चोरी से होने वाले फर्जीवाड़े को रोकने के लिए अब फिंगरप्रिंट बैंकिंग को आगे बढ़ाया जा रहा है. पासवर्ड बेशक प्राइवेट इनफॉरमेशन को सुरक्षित रखने का सबसे अच्छा जरिया है, लेकिन अब इसमें सेंधमारी आम बात हो गई है. दूसरी कमी ये है कि पासवर्ड दर्ज करने और फिर काम शुरू होने में कुछ वक्त लग जाता है. आज के समय में ग्राहक इतना भी वक्त नहीं देना चाहते. इसे देखते हुए बैंक अब फिंगरप्रिंट बैंकिंग की सुविधा दे रहे हैं. चूंकि यह पूरी तरह से बायोमीट्रिक सिस्टम पर आधारित होता है, इसलिए फिंगरप्रिंट बैंकिंग में सुरक्षा की गारंटी पूरी मिलती है।
  • कई वजह है जिससे बैंकों को फिंगरप्रिंट बैंकिंग की जरूरत पड़ी. पहला कारण तो ये है कि पासवर्ड आसान हो तो उसे याद रखा जा सकता है. लेकिन आपको पता होगा कि कई पासवर्ड ऐसे होते हैं जिसे सिंबल और नंबर के साथ दर्ज करना होता है. ऐसा एक जगह नहीं बल्कि कई जगह करना होता है. अगर मोबाइल में कई ऐप हैं तो सबके लिए अलग-अलग पासवर्ड. इसे याद रखना बहुत मुश्किल काम है. भूल गए तो बैंकिंग का काम लटक सकता है।
  • इन खामियों को देखते हुए बैंक अब फिंगरप्रिंट का तरीका प्राथमिकता से आगे बढ़ा रहे हैं. फिंगरप्रिंट किसी का किसी से मैच नहीं हो सकता. इसलिए फर्जीवाड़े की आशंका शून्य हो जाती है. लॉगिन करने के लिए आपको बस अपनी किसी एक अंगुली की छाप देनी होती है. ऐप को इनेबल करने के लिए जिस अंगुली की छाप को रजिस्टर करेंगे, आगे उसी से काम होता रहेगा।

फिंगरप्रिंट बैंकिंग के 5 फायदे

  • 1-सुरक्षित बैंकिंग : फिंगरप्रिंट लॉगिन की सुविधा होने से बैंकिंग सुरक्षित हो जाती है. कई बैंक फिंगरप्रिंट के अलावा भी विकल्प रखते हैं. जैसे आईसीआईसीआई बैंक फिंगप्रिंट के अलावा 4 अक्षर का कोड भी देता है. यह कोड पासवर्ड की तरह ही इस्तेमाल होता है. अगर फिंगरप्रिंट नहीं लगा सके तो कोड डालकर भी बैंकिंग ऐप शुरू कर सकते हैं. यह वैकल्पिक सुविधा इमरजेंसी परिस्थितियों के लिए दी गई है. इसी तरह इंडसइंड बैंक अपने मोबाइल ऐप के लिए स्वाइप पैटर्न देता है. जैसे मोबाइल को स्वाइप पैटर्न से अनलॉक करते हैं, वैसे बैंकिंग ऐप को भी अनलॉक कर सकते हैं. जितना फिंगप्रिंट यूनिक होता है, उतना ही यूनिक स्वाइप पैटर्न होता है. इसलिए इन दोनों विकल्प से शुरू होने वाली बैंकिंग को सुरक्षित मान सकते हैं।
  • 2-तेजी होगा काम : आज के समय में वक्त सबकुछ है. रुपया-पैसा सब वक्त की बदौलत है. हर आदमी अपना एक-एक मिनट का कीमती वक्त बचाना चाहता है. अब जरा पासवर्ड बैंकिंग और फिंगरप्रिंट बैंकिंग के बीच तुलना कर लीजिए. कहीं खरीदारी करते हैं या एटीएम से पैसा निकालते हैं तो क्या करते हैं? कार्ड लगाया और पासवर्ड डाला. कुछ देर इंतजार के बाद काम शुरू होता है. कभी-कभी बीच में ही मामला अटक जाता है।
  • आप ये भी देखते होंगे कि एक ही पासवर्ड जन्म जन्मांतर के लिए नहीं होता. उसमें हमेशा फेरबदल की जरूरत होती है. यह बहुत ही झल्ला देने वाला काम है. उसके बाद भी फर्जीवाड़ा करने वाले लोग खाता खाली कर देते हैं. लेकिन फिंगरप्रिंट के साथ ऐसा नहीं हो सकता. आपकी उंगली कभी धोखा नहीं खा सकती. पासवर्ड तो फिर भी धोखा खा सकता है।
  • 3-इस्तेमाल करने में सुविधाजनक : बस पहली बार थोड़ी असुविधा लग सकती है. एक बार मोबाइल ऐप डाउनलोड कर लें और फिंगरप्रिंट रजिस्टर कर दें तो आगे मामला आसान रहेगा. ऑथेंटिकेशन और ऑथराइजेशन के सभी झंझट खत्म हो जाते हैं. अंगुली की निशानी लगाते ही ऐप खुल जाता है. इसके बाद कम समय में बैंकिंग से जुड़े सभी काम आसानी और सुविधा के साथ निपटाए जा सकते हैं।
  • 4-पासवर्ड याद रखने से मुक्ति : जिंदगी में आजकलइतने पासवर्ड हो गए हैं कि उसे याद रखना अपने आप में चुनौती भरा काम है. पासवर्ड में नंबर और सिंबल की परेशानी अलग से. कैप्स और स्मॉल लेटर भी बड़ा कष्ट देने वाला काम होता है. बैंक से लेकर आधार और मोबाइल से लेकर कंप्यूटर तक, इतने तरह के पासवर्ड हैं कि आखिर कोई क्या कर सकता है. इसी का उपाय है फिंगरप्रिंट बायोमीट्रिक वेरिफिकेशन. इसमें हर की मुश्किल आसान हो जाती है. कह सकते हैं, जहां आपकी अंगुली वहां आपका बैंक।
  • 5-फिंगरप्रिंट की हैंकिंग नहीं : पासवर्ड हैक करना आसान है, लेकिन फिंगरप्रिंट के साथ यह बात नहीं. फिंगरप्रिंट चूंकि हर आदमी की यूनिक होता है, उसका फर्जीवाड़ा करना मुश्किल है. पहले के जमाने में यही सोचकर अंगुठा छाप वेरिफिकेशन को मान्यता दी गई थी. अब वही प्रचलन अति आधुनिक होकर फिंगरप्रिंट के रूप में हमारे सामने है, दोनों का मकसद यही है कि ग्राहकों की बैंकिंग प्रणाणी को चुस्त-दुरुस्त और सुरक्षित बनाया जाए. फिंगरप्रिंट के लिए आपको पासवर्ड याद रखने की जरूरत नहीं है. यह बैंकिंग को सुरक्षित और तेज बना देता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nineteen − 7 =

Back to top button