फिल्मी दुनिया

मनोरंजन : अरुण गोविल और दर्शील सफारी की आने वाली फिल्म ‘हुकुस बुकुस’ का ट्रेलर जारी हो चुका है।

फिल्मी दुनिया

  • अरुण गोविल और दर्शील सफारी की आने वाली फिल्म ‘हुकुस बुकुस’ का ट्रेलर जारी हो चुका है। फिल्म के निर्माताओं ने आज शुक्रवार, 28 अक्तूबर को मुंबई में ‘हुकुस बुकुस’ के ट्रेलर का अनावरण किया। इस कार्यक्रम में एक ऐसी फिल्म की झलक दिखाई गई, जो कश्मीर की लुभावनी पृष्ठभूमि पर आधारित क्रिकेट और धर्म के अंतर्संबंध की पड़ताल करती है। Hukus Bukus: अरुण गोविल और दर्शील सफारी की आने वाली फिल्म ‘हुकुस बुकुस’ का ट्रेलर जारी हो चुका है। फिल्म के निर्माताओं ने आज शुक्रवार, 28 अक्तूबर को मुंबई में ‘हुकुस बुकुस’ के ट्रेलर का अनावरण किया।
  • इस कार्यक्रम में एक ऐसी फिल्म की झलक दिखाई गई, जो कश्मीर की लुभावनी पृष्ठभूमि पर आधारित क्रिकेट और धर्म के अंतर्संबंध की पड़ताल करती है। फिल्म में दर्शील सफारी, अरुण गोविल, गौतम सिंह विग, वाशु जैन और नायशा खन्ना मुख्य भूमिका में हैं। इस ट्रेलर लॉन्च इवेंट में अभिनेता दर्शील सफारी, अरुण गोविल, सज्जाद डेलाफ्रूज और निर्देशक विनय भारद्वाज उपस्थित थे। वहीं महेश भट्ट मुख्य अतिथि थे। फिल्म का दमदार ट्रेलर दर्शकों को खूब पसंद आ रहा है। इस फिल्म ‘हुकुस बुकुस’ का ट्रेलर एक कश्मीरी पंडित पिता का सिद्धांत, बेटे के जुनून, कश्मीर और क्रिकेट की दिल छू जाने वाली मजेदार कहानी दिखाई जाएगी।
  • दो मिनट 28 सेकंड के इस ट्रेलर में दर्शील एक युवा क्रिकेटर की भूमिका में हैं, जिसकी दुनिया सचिन और क्रिकेट के आसपास है। दर्शील का किरदार सचिन तेंदुलकर का फैन है और उनके जैसा क्रिकेटर बनना चाहता है। इस ट्रेलर की शुरुआत अरुण गोविल की आवाज से होती है, जिसमें वह कहते हैं, ‘एक मैच हुआ था शेरे-ए-कश्मीर स्टेडियम में, वेस्टइंडीज और इंडिया के बीच। चौकों छक्कों पर जोर-जोर से नारे लगे, लेकिन वेस्ट इंडीज जिंदाबाद के नहीं पाकिस्तान जिंदाबाद के।’
  • अरुण गोविल ने कश्मीरी पंडित की भूमिका निभाई है, जिनके बेटे का जुनून क्रिकेटर बनने के लिए बढ़ता ही जाता है। दर्शील का किरदार अपने पापा से कहता है कि वह सचिन तेंदुलकर जैसा क्रिकेटर बनेगा तो उसके पापा कहते हैं कि तुझे पंडित बनना है। वहीं दूसरी तरफ कश्मीर में मंदिर की जमीन पर पहला मॉल बन रहा है, जिसका विरोध अरुण करते हैं, लेकिन वह लड़ाई दर्शील के क्रिकेट से भी जुड़ जाती है। दर्शील मंदिर के खिलाफ क्रिकेट लड़ने को तैयार हो जाता है, जिसके बाद एक पिता और बेटे के रिश्ते में भी खटास आ जाती है।

मनोरंजन : चुनाव के पहले जनता के सेवक, बाद में जनता इनकी सेवक

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *