2
1
previous arrow
next arrow
देशधर्म / ज्योतिषवास्तु

घर में सन्तान सम्बन्धित दोष के लिये : वास्तु शास्त्र में क्या है उपाय

यदि किसी परिवार में सन्तान

उत्पन्न नही हो रही हैं तो

कौन सा वास्तु दोष होता है ?

—————

इन दोष के निराकरण के लिए

क्या उपाय करना चाहिए ?

—————

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में

सन्तान इशान कोण, उत्तर और

पूर्व दिशा से प्रवेश करती है।

—————

जब भी इशान कोण,

पूर्व व उत्तर दिशा में दोष होगा

तब तब घर में सन्तान को

समस्या का सामना करना पड़ेगा

या सन्तान होने में बाधा उत्पन्न होगी।

—————

-: इशान कोण के प्रमुख दोष है :-

  • ईशान, पूर्व और उत्तर दिशा में
  • (1) सेप्टिक टेंक का होना
  • (2) शौचालय का होना
  • (3)  किचन का होना
  • (4) सीडी का होना
  • (5)  ओवर हेड टेंक
  • (6)  इशान कोण भारी होना
  • (7) इशान कोण बंद हो
  • (8) इशान कोण सबस ऊँचा हो गया हो
  • (9) इशान कोण में ऊँचा कोई निर्माण कार्य हो
  • (10) ईशान कोण मे  ट्रांसफार्मर, मीटर या जनरेटर लगा हो।
  • (11) ईशान कोण का हिस्सा निर्माण में कटा हुआ हो।
  • (12) ईशान कोण में कबाड़ और कचरे रखे हों।

घर में सन्तान सम्बन्धित दोष के लिये : वास्तु शास्त्र में क्या है उपाय Pradakshina Consulting PVT LTD

अगर निवास में सन्तान सम्बन्धित कोई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा हो तो उस दोष का निराकरण कैसे करें।
  • 1) अगर ईशान कोण में उपरोक्त कोई भी दोष हो तो इस कोण के स्वामी ग्रह गुरु यन्त्र की स्थापना प्राण प्रतिष्ठा करके करें ।
  • 2) अगर पूर्व दिशा में उपरोक्त कोई भी दोष हो तो इस कोण के स्वामी ग्रह सूर्य  यन्त्र की स्थापना प्राण प्रतिष्ठा करके करें ।
  • 3) अगर उत्तर दिशा में उपरोक्त कोई भी दोष हो तो इस कोण के स्वामी ग्रह बुध  यन्त्र की स्थापना प्राण प्रतिष्ठा करके करें ।
  • 4) ईशान कोण का तत्व जल होता है इसलिए जब भी ईशान कोण में कोई भी दोष हो तो जल तत्व से भी उपाय करना उचित होता है , ईशान कोण में एवं पुजा घर में  एक कलश “वरूण कलश” स्थापित कर देवें।
  • 5) पूर्व दिशा का तत्व जल होता है इसलिए जब भी पूर्व दिशा में कोई भी दोष हो तो जल तत्व से भी उपाय करना उचित होता है ।
  • 6) उत्तर दिशा का तत्व जल होता है इसलिए जब भी उत्तर दिशा में कोई भी दोष हो तो जल तत्व से भी उपाय करना उचित होता है , उत्तर दिशा में एक पानी का पात्र ( मटका, बोतल पानी का जार ) भरकर रख देवें।
  • 7) पेड़ पौधे सकारात्मक ऊर्जा के सबसे बड़े स्त्रोत माने जाते हैं इसलिए उपरोक्त सभी दोष के निराकरण के लिए दोष स्थल के आस पास अधिक से अधिक संख्या में पेड़ पौधे गमलों में रखकर दोषों का निराकरण करना उचित फल देता है।

आज करें ये उपाय तो बरसेगा धन!

वास्तु अनुरुप कहां लगाएं कैलेंडर

बिल्व पत्र वृक्ष की महिमा व वास्तु में महत्व : आनंद पुरोहित

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button