2
1
previous arrow
next arrow
कोरबाछत्तीसगढ़राजनीति

आंतरिक गुटबाजी से बिगड़ सकती है आंदोलन की आबो-हवा

जिला भाजपा ने बालको विस्तार परियोजना के लिए होने वाली जनसुनवाई के विरोध में फूंका बिगुल

—————

नहीं की गई पार्टी केे

वरिष्ठ व जिम्मेवार नेताओं से

रायशुमारी

—————

  • कोरबा/हरिराम चौरसिया/08/02/2021
  • जिला भाजपा ने बालको की विस्तार परियोजना को लेकर आगामी 17 फरवरी को होने वाले जनसुनवाई के विरोध में 10 फरवरी को संयंत्र के मुख्य द्वार के सामने परसाभाटा चौक पर धरना-प्रदर्शन करने की घोषणा की है। अनेक मुद्दों पर आधारित प्रस्तावित इस आंदोलन को लेकर जिला भाजपा अध्यक्ष डॉ. राजीव सिंह ने इस बाबत कलेक्टर किरण कौशल को एक पत्र भी सौंपा है। इसे लेकर जिलास्तरीय पार्टी का एक बड़ा धड़ा भाजपा के इस नवोदित जिलाध्यक्ष डॉ. सिंह की ‘एकला चलो’ नीति और कार्यशैली से बेहद खफा है।
  • कुछ ऐसा ही हाल बालको भाजपा मंडल का भी है। जिला अध्यक्ष की इस कार्यशैली से वे भी बहुत नाराज चल रहे हैं। बालको विस्तार परियोजना को लेकर होने वाले जनसुनवाई के मद्देनजर विरोध में किया जाने वाला जिला भाजपा का प्रस्तावित यह धरना-प्रदर्शन कितना प्रभावी और कारगर होगा, यह कहना अभी मुश्किल है लेकिन जिला स्तर पर अनेक धड़ों में बिखरी पार्टी की फजीहत होती जरूर दिख रही है। अनुशासन और एकजुटता का पाठ पढ़ाने वाली राष्ट्रीय पार्टी के जिला स्तरीय बड़े नेता अथवा पदाधिकारी किसी बड़े अथवा सामान्य मुद्दों पर होने वाले संघर्ष के लिए यदि मेल-मिलाप कर आपसी सहमति नहीं बना पाते हैं तो यह पार्टी के लिए दुश्वारियों से कम नहीं होगा।
  • जिले में पार्टी के भीतर बड़े पैमाने पर वर्षों से चल रहे अंदरूनी गुटबाजी और अंतर्कलह की यथेष्ठ जानकारी प्रदेश भाजपा नेतृत्व को भी है लेकिन वह किंकर्तव्यविमूढ़ हो यह सब कुछ देखने को विवश है। प्रदेश भाजपा नेतृत्व ने जिले में पार्टी की कमान एक नवोदित नेता को सौंपकर पार्टी संगठन को मजबूत करने सहित कार्यकर्ताओं को साथ लेकर चलने की बात भले ही कही हो लेकिन हालिया स्थिति में यह बात किसी भी तरह से चरितार्थ होती नहीं दिख रही है।
  • जिला भाजपाई नेताओं के बीच वर्चस्व को लेकर चल रही अंदरुनी उठापटक और गुटबाजी का नज़ारा पिछले कुछ समय से लगातार देखने को मिल रहा है। ऐसे में मौजूदा भाजपा जिलाध्यक्ष के नेतृत्व में बालको परियोजना विस्तार मामले को लेकर  17 फरवरी को किए जाने वाले विरोध आंदोलन का क्या हश्र होगा, यह बताने की नहीं बल्कि समझने की जरूरत है। प्रस्तावित आंदोलन के मामले में जब पार्टी के बड़े नेताओं से संपर्क कर उपयुक्त जानकारी चाही गई, उनकी साफ़ सुथरी और बेबाक कहींं बातों ने आंदोलन की हवा निकालने का ही काम किया है।

—————

किसने क्या कहा

  • भाजपा के पूर्व जिला अध्यक्ष अशोक चावलानी ने इस आंदोलन से अपनी अनभिज्ञता जाहिर की। वे कहते हैं कि  प्रस्तावित किसी भी बड़े आंदोलन या कार्यक्रम के लिए पार्टी स्तर पर आपसी सहमति और सामंजस्य स्थापित करना आवश्यक होता है पर इस मामले में जिला पार्टी नेतृत्व द्वारा ऐसा कुछ भी नहीं किया गया है, जो गलत है।

अशोक चावलानी

आंतरिक गुटबाजी से बिगड़ सकती है आंदोलन की आबो-हवा Pradakshina Consulting PVT LTD
  • ✓ भाजपा नेता और पूर्व महापौर जोगेश लांबा से इस बारे में जब उनकी राय मांगी गई, उन्होंने साफतौर पर कहा कि मुझे इस आंदोलन के बारे में कोई खास जानकारी नहीं है। यदि जिला स्तर पर पार्टी का कोई ऐसा कार्यक्रम है भी तो इसे पार्टी संगठन के मंच पर वरिष्ठ नेताओं के बीच जरूर लाना चाहिए।

जोगेश लांबा

आंतरिक गुटबाजी से बिगड़ सकती है आंदोलन की आबो-हवा Pradakshina Consulting PVT LTD

  • ✓ कुछ ऐसी ही बात भाजपा के पूर्व विधायक और संसदीय सचिव रहे लखनलाल देवांगन ने भी कही। आंदोलन के संबंध में उन्होंने साफतौर पर कहा कि, मुझे अब तक की स्थिति में इस आंदोलन के बारे में कुछ खास जानकारी नहीं है। जिला भाजपा अध्यक्ष को आंदोलन संबंधी इस मामले को पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के संज्ञान में जरूर लाना चाहिए था। ऐसा नहीं होने से पार्टी संगठन की ही फजीहत होती है।

लखन लाल देवांगन

आंतरिक गुटबाजी से बिगड़ सकती है आंदोलन की आबो-हवा Pradakshina Consulting PVT LTD
  • ✓ प्रस्तावित इस आंदोलन के संबंध में जब कोरबा भाजपा के जिला प्रभारी गिरधर गुप्ता से बात की गई उन्होंने साफतौर यह कहकर कि ‘मुझे पार्टी के जिलाध्यक्ष द्वारा इस प्रकार के किसी भी आंदोलन के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है’ कहकर यह संकेत दे दिया कि जिला भाजपा में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है।

गिरधर गुप्ता

आंतरिक गुटबाजी से बिगड़ सकती है आंदोलन की आबो-हवा Pradakshina Consulting PVT LTD

  • ✓ बालको नगर के अंतर्गत आने वाले वार्ड क्रमांक 35 के भाजपा पार्षद एवं नगर पालिक निगम कोरबा के नेता प्रतिपक्ष हितानंद अग्रवाल ने यह कहकर प्रस्तावित बालको विरोध के इस आंदोलन की हवा निकाल दी कि, उन्हें इस आंदोलन के संबंध में अभी तक पार्टी संगठन स्तर पर कोई जानकारी नहीं दी गई है। हां, आंदोलन के संबंध में सुना जरूर है।

हितानंद अग्रवाल

आंतरिक गुटबाजी से बिगड़ सकती है आंदोलन की आबो-हवा Pradakshina Consulting PVT LTD

—————

  • ✓ जिला भाजपा के बड़े और वरिष्ठ नेताओं को आंदोलन की यथेष्ठ जानकारी नहीं देने संबंधी सवाल पर भाजपा जिलाध्यक्ष डॉ. राजीव सिंह ने कहा कि “हम पार्टी के वरिष्ठ नेताओं व पदाधिकारियों के साथ सामंजस्य बनाकर काम करने में विश्वास रखते हैं। जहां तक बात कुछ बड़े मुद्दों को लेकर बालको प्रबंधन के खिलाफ किए जाने वाले आंदोलन की सूचना पार्टी के बड़े नेताओं को नहीं देने की है, इस संबंध में अभी सिर्फ यही कहूंगा कि उचित समय के हिसाब से सभी को सूचना दे दी जाएगी।
  • जहां तक बात जिले के मौजूदा पार्टी पदाधिकारियों की है हमने उन्हीं के साथ बैठक कर बालको में मौजूद विभिन्न ज्वलंत मुद्दों यथा पर्यावरण संरक्षण, जबरिया सेवानिवृत्ति और स्थानीय कामगारों को नौकरी देने सहित कई अन्य मामलों को लेकर आंदोलन करने का निर्णय लिया है”। डॉ. राजीव सिंह ने यह भी कहा कि हम ‘बालको’ या किसी उद्योग ख़ास का विरोध नहीं कर रहे हैं। हम स्वयं भी विकास चाहते हैं लेकिन यह विकास लोगों और क्षेत्र के समुचित विकास के साथ हो।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button