2
1
previous arrow
next arrow
राजस्थानबीकानेरराजस्थान

राजस्थान : एमजीएसयू में हुआ महात्मा गाँधी की वर्तमान प्रासंगिकता पर राष्ट्रीय वर्चुअल व्याख्यान


महात्मा गाँधी एक ऐसे संगम के रूप में स्थापित हुए, जिसमें गरम दल और नरम दल दोनों की लकीरें विलीन हो गई

प्रो. विनोद कुमार सिंह

—————
  • बीकानेर/एक्ट इंडिया न्यूज
  • राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी की 150 वीं जयन्ती वर्ष श्रृृंखला के तहत 152 वीं जयन्ती के अवसर में आज 02 अक्टूबर, 2021 को विश्वविद्यालय में ‘‘ राष्ट्र निर्माण एवं वर्तमान में गाँधी के विचारों की प्रासंगिकता ’’ विषय पर वर्चुअल व्याख्यान आयोजित हुआ। सर्वप्रथम राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी व शास्त्री के चित्र पर माल्यार्पण के साथ आयोजन का विधिवत शुभारम्भ हुआ।
  • संयोजन करते हुए इतिहास विभाग की डाॅ. मेघना शर्मा ने गांधी व शास्त्री सरीखी विभूतियों के आदर्शो को आत्मसात करने की आवश्यकता को कार्यक्रम के परिचय के साथ व्यक्त करते हुए अतिथियों का परिचय मंच से दिया। सेन्टर के डाॅयरेक्टर एवं कार्यक्रम प्रभारी  प्रो. अनिल कुमार छंगाणी द्वारा स्वागत भाषण देते हुए कार्यक्रम की संक्षिप्त  रूपरेखा प्रस्तुत की गई।
राजस्थान : एमजीएसयू में हुआ महात्मा गाँधी की वर्तमान प्रासंगिकता पर राष्ट्रीय वर्चुअल व्याख्यान Pradakshina Consulting PVT LTD
  • व्याख्यान में अध्यक्षीय उद्बोधन देते हुए कुलपति प्रो. विनोद कुमार सिंह ने कहा कि महात्मा गाँधी प्रयोगधर्मी चिंतक थे जिनका वजूद सांस्कृतिक चेतना के सूत्र में राष्ट्र को जोड़ने के प्रति समर्पित रहा। गाँधी राजनीतिक चरित्र की धारा बदलकर एक ऐसे संगम के रूप में स्थापित हुए, जिसमें गरम दल और नरम दल दोनों की लकीरें विलीन हो गयी। भारतीय क्रांति की अभिव्यक्ति गाँधी के विचारों में परिलक्षित होती है। उन्होंने कहा कि गांधी एक महान शिक्षाविद् थे, उनका मानना था कि किसी देश की सामाजिक, नैतिक और आर्थिक प्रगति अंततः शिक्षा पर निर्भर करती है। उनकी राय में शिक्षा का सर्वोच्च उद्देश्य आत्म मूल्याकंन है। उनके अनुसार विद्यार्थियों के लिए चरित्र निर्माण सबसे महत्वपूर्ण है और यह उचित शिक्षा से ही संभव है।
राजस्थान : एमजीएसयू में हुआ महात्मा गाँधी की वर्तमान प्रासंगिकता पर राष्ट्रीय वर्चुअल व्याख्यान Pradakshina Consulting PVT LTD
  • मुख्य वक्ता प्रो. सतीश कुमार ने गांधी को बहुआयामी व्यक्तित्व बताते हुए अपने संभाषण में प्लेटफार्म पर फेक दिये जाने वाले गांधी और उसके बाद उठकर खडे़ होने वाले गांधी के अन्तर को स्पष्ट करते हुए उनके स्वतंत्रता आन्दोलन के महानायक तक के सफर को चित्रित करते हुए गांधी के जीवन से प्रेरणा लेने का स्मरण करवाया।

राजस्थान : एमजीएसयू में हुआ महात्मा गाँधी की वर्तमान प्रासंगिकता पर राष्ट्रीय वर्चुअल व्याख्यान Pradakshina Consulting PVT LTD

  • वक्ता के रूप में प्रबन्ध बोर्ड सदस्य डाॅ. विनोद चन्द्रा ने बताया कि आज गांधी को विचारों एवं व्याख्यानों की परिधि से बाहर निकालकर आचरण में उतारने व व्यवहारिक रूप से उनके सिद्वान्तों की पालना सुनिश्चित करवाने की जरूरत वर्तमान पीढ़ी के उत्थान हेतु आवश्यक है।
राजस्थान : एमजीएसयू में हुआ महात्मा गाँधी की वर्तमान प्रासंगिकता पर राष्ट्रीय वर्चुअल व्याख्यान Pradakshina Consulting PVT LTD
  • व्याख्यान में धन्यवाद ज्ञापन शोध निदेशक डाॅ. रविन्द्र मंगल द्वारा किया गया। कार्यक्रम में प्रो. सुरेश कुमार अग्रवाल, प्रो. राजाराम चोयल, डाॅ. गौतम मेघवंशी, डाॅ. धर्मेश हरवानी, डाॅ. अभिषेक वशिष्ठ, डाॅ. ज्योति लखाणी, डाॅ. प्रभुदान चारण, डाॅ. सीमा शर्मा, अमरेश कुमार सिंह, उमेश शर्मा, निर्मल भार्गव आदि उपस्थित रहे।

स्व. गजानंद सारस्वत कपुरीसर की स्मृति में हुआ मेघा रक्तदान शिविर का आयोजन

बहुरानी सम्मेलन में राज्यपाल अनुसुईया उइके होंगी मुख्य अतिथि

डेंगू पर करने वार, बीकाणा ब्लडसेवा समिति के रक्तदाता हर समय तैयार

क्या देश के लिये घातक हाे सकती है अमेज़ॅन और फ्लिपकार्ट की योजना ?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × one =

Back to top button