छत्तीसगढ़

क्या है होम वोटिंग और इससे किस-किस को होगा लाभ

विधानसभा चुनाव 2023 : छत्तीसगढ़

  • बिलासपुर. राज्य में दूसरे चरण के लिए मतदान 17 नवंबर को निर्वाचन आयोग ने तय किया है। इससे पहले दो दिन पूर्व यानी 7 नवंबर को पहले चरण का मतदान बस्तर में संपन्न हो चुका है। फस्ट स्टेप की वोटिंग में कुछ तस्वीरे सामने आई है। जिसमे चलने फिरने में असमर्थ बुजुर्ग , दिव्यांग के आलावा ऐसे लोगों को निर्वाचन की टीम द्वारा होम वोटिंग कराई गई है जो मतदान केंद्र तक नहीं जा सकते है।
  • इधर वोटिंग के सेकेंड पार्ट को लेकर फिर एक बार मांग उठ रही है कि बुजुर्गो, दिव्यांग और मतदान केंद्र पर जाने के लिए असमर्थ मतदाताओं के लिए होम वोटिंग की व्यवस्था की जाए जबकि चुनाव के तारीखों के एलान होने से पहले ही जिला प्रशासन की टीम ने फार्म भरवा कर होम वोटिंग की प्रक्रिया को पूरा कर लिया था।

हमे नही मालूम था

  • होम वोटिंग की व्यवस्था और सोशल मीडिया में तस्वीरे सामने आने के बाद शहर समेत राज्य के अन्य मतदाता और उनके परिजन जो 17 नवंबर के सेकेंड पार्ट की वोटिंग से हिस्सा लेंगे आरोप लगा रहे हैं कि इस प्रकिया की जानकारी हमे नही थी। होम वोटिंग के बारे में कुछ लोगों ने बताया कि शहर में अभी बहुत से ऐसे बुजुर्ग और असमर्थ मतदाता है जो मतदान केंद्र तक नही जा सकते है। जो भी जानकारी सामने आई उसका माध्यम सोशल मीडिया से जुड़ा है। निर्वाचन आयोग से मांग की जा रही है कि 17 नवंबर के पूर्व पुनः होम वोटिंग की करा बुजुर्ग और असमर्थ मतदाताओं को उनके मतदान का उपयोग करने दिया जाए, नही तो कोई नही जाएगा जिसकी सीधा असर वोटिंग प्रतिशत पर पड़ेगा।

जारी है होम वोटिंग

  • इधर जिला निर्वाचन की टीम ने गुरुवार को कई बुजुर्गो और मतदान केंद्र तक आसानी से नही पहुंचने वाले असमर्थ मतदाताओं के घर पहुंच होम वोटिंग कराया,जिला निर्वाचन की टीम के एक अफसर ने बताया कि शुक्रवार को भी होम वोटिंग का कार्य जारी रहेगा। उनकी माने तो राज्य में चुनाव के तारीखो की घोषणा होने से पहले ही एक फार्म भरवा लिया गया था। जिसमे बुजुर्ग और असमर्थ मतदाताओं की सारी डिटेल भर अपडेट करने का कार्य पूरा कर लिया गया है,अब यह काम संभव नहीं है।

logo actindia Console Corptech